PWD इंजीनियर का खुलासा, केजरीवाल के रिश्तेदार ने दी धमकी, नहीं मानने पर हुआ तबादला

18 Oct 2017 11:14 AM

चंदे में हेराफेरी से लेकर हवाला और मनी लॉन्ड्रिंग तक के आरोप  अरविन्द केजरीवाल पर लगातार  लग रहे हैं. लेकिन एक न्यूज़ चैनल  के कैमरे पर कुछ ऐसे खुलासे हुए जो साफ-साफ सबूत हैं कि AAP की सरकार की नाक के नीचे  केजरीवाल के रिश्तेदारों की समानान्तर सत्ता और मनमानी  चल रही है. कैसे केजरीवाल के रिश्तेदार अफसरों को धमकाकर मनमुताबिक काम करवा रहे हैं और काम ना करने पर कैसे अफसरों को चलता कर दिया जाता है.


सवाल बड़ा ये है कि क्या अरविन्द केजरीवाल के राज में नियम-कायदे की नहीं धमकी की भाषा चलती है. सत्ता और सिस्टम को बदल देने का दावा करने वाले केजरीवाल के राज में भाई-भतीजेवाद का खुला खेल चल रहा है? केजरीवाल के नाते-रिश्तेदार सत्ता तंत्र की ताकत पर सरकारी मशीनरी को उंगलियों पर नचाते हैं. एक न्यूज़ चैनल के कैमरे पर ये खुलासा सबूत है कि कैसे दिल्ली में सरकारी अफसरों की बाहें मरोड़कर मनमाने तरीके से काम कराया जा रहा है.


दरअसल असिस्टेंट इंजीनियर दिनेश शर्मा केजरीवाल सरकार में भाई-भतीजावाद के शिकार हैं. केजरीवाल के साढू सुरेंद्र बंसल की कंपनी रेनु कंस्ट्रक्शन की राह में रोड़ा अटकाने की बड़ी कीमत इन्हें चुकानी पड़ी. क्योंकि केजरीवाल के रिश्तेदार की प्लानिंग पर पानी फेरने की वजह से एक झटके में इनका तबादला कर दिया गया. उधर, असिस्टेंट इंजीनियर दिनेश शर्मा बेटी से मिलने अमेरिका गए और इधर उनके नाम ट्रांसफर का खत आ गया.


दिनेश शर्मा ने कहा 'करीब अप्रैल के अंत में या मई के 1-2 तारीख को मेरी फ़ाइल ट्रांसफर के लिए सेक्रिटिएट चली गई, मैंने पूछा मेरी गलती क्या है बताओ? क्योंकि मैं NOC ले रखी थी, मेरी बेटी अमेरिका में रहती है और मैं 6 मई को उससे मिलने चला गया. इन्होंने इस बीच 10 मई को ट्रांसफर कर दिया मेरा , जबकि 22 तक की  मेरी छुट्टी थी'.


 इस इंजीनियर की गलती क्या थी, जुर्म क्या था? 


दिनेश शर्मा के मुताबिक गलती ये थी कि इन्होंने केजरीवाल के साढ़ू की कंपनी को बना-बनाया नाला तोड़ने की इजाजत नहीं दी, क्योंकि केजरीवाल के साढ़ू की कंपनी नाला तोड़कर सामान ले जाना चाहती थी जो कि गैरकानूनी था. दिनेश शर्मा का कहना है कि उन्होंने स्पष्ट कह दिया था कि जो काम होगा वो ठीक से होगा और नियम से होगा. इसी वजह से तबादला कर दिया गया.


दिनेश शर्मा की मानें तो अरविन्द केजरीवाल के साढ़ू सुरेंद्र बंसल के बेटे विनय कुमार ने इन्हें फोन पर धमकियां दी. केजरीवाल के सीएम होने का खौफ दिखाया, और यहां तक कि जान से हाथ धो लेने की चेतावनी भी दी गई. दिनेश शर्मा ने  एक न्यूज़ चैनल के कैमरे पर कई हैरान करने वाले खुलासे किए.

रेणु कंस्ट्रक्शन ने जिस कीमत पर काम का ठेका लिया उस पर इन्हें हैरत और दाल में काला दिख रहा है.


ये एक इंजीनियर के तबादले का मामला नहीं, केजरीवाल सरकार की सोच और भाई-भतीजावाद का सवाल है. बड़ा सवाल यही है कि क्या केजरीवाल के राज में आम आदमी नहीं नाते-रिश्तेदार फल-फूल रहे हैं और सत्ता के गलियारे में उनकी ही मौज  चल रही है?